समाचार
आज़म खान की अभद्र टिप्पणी से नाराज हैं मुस्लिम महिलाएँ पर वोट सपा नेता को ही

आज़म खान की जया प्रदा पर की गई विवादित टिप्पणी को लेकर रामपुर की मुस्लिम महिलाएँ खफा हैं। उन्होंने इस टिप्पणी की कड़ी निंदा की है। फिर भी विकास के नाम पर सपा नेता को ही वोट देने की बात भी कही है।

पीटीआई  की रिपोर्ट के अनुसार, रामपुर की मूल निवासी शगुफा इशरत ने कहा, “किसी महिला को लेकर इस तरह की व्यक्तिगत टिप्पणी करना बिल्कुल गलत था।” गृहिणी यासरा बी ने कहा, “एक उम्मीदवार के खिलाफ इस तरह की अभद्र टिप्पणी पूरी तरह अस्वीकार्य है।” साथ ही एक होटल कर्मचारी यासमीन सफदर ने भी नेता की टिप्पणी पर नाराज़गी जाहिर की। इससे पहले चुनाव आयोग ने आजम की टिप्पणी को देखते हुए उनके 72 घंटे के चुनाव प्रचार पर प्रतिबंध लगा दिया था।

क्षेत्र के नौ बार के विधायक आज़म खान 2019 के आम चुनाव में रामपुर लोकसभा सीट से जया प्रदा के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं। रामपुर में एक चुनावी रैली के दौरान आज़म ने कहा था, “मैं उसे (जया प्रदा) रामपुर ले आया। आप गवाह हैं कि मैंने किसी को उसके शरीर को छूने नहीं दिया। आपको उसके असली चेहरे की पहचान करने में 17 साल लग गए लेकिन मुझे 17 दिनों में पता चला गया था कि वह खाकी अंडरवियर पहनती है।

हालाँकि, ज्यादातर महिलाओं ने यह भी कहा कि वे आज़म खान के इस बयान के बावजूद उन्हें ही वोट करेंगी। सफदर ने कहा, “मैं और मेरा परिवार आज़म खान को वोट देगा क्योंकि उन्होंने रामपुर के विकास के लिए वास्तव में कड़ी मेहनत की है। उनकी वजह से ही महिलाओं की सुरक्षा को लेकर यहाँ कोई समस्या नहीं रही।”