समाचार
मुस्लिम नेताओं ने ज़फरउल इस्लाम पर कार्रवाई की निंदा कर माँगी एफआईआर वापसी

सोशल मीडिया पर विवादित पोस्ट करने को लेकर दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष ज़फरउल इस्लाम खान के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया गया था। अब प्रमुख मुस्लिम नेताओं ने उन पर दर्ज की गई एफआईआर को वापस लेने की माँग की है।

कई मुस्लिम नेताओं ने हस्ताक्षर कर बयान जारी किया, “हम दिल्ली पुलिस की ज़फरउल इस्लाम खान के खिलाफ कार्रवाई की निंदा करते हैं। कुछ दिन पहले ट्वीट करने के बाद दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष के खिलाफ पुलिस की पक्षपातपूर्ण भूमिका एक बार फिर उजागर हुई है।”

बयान में कहा गया, “खान ने जो ट्वीट किया था, उससे कोई असहमत हो सकता है। उन्होंने बाद में इस बारे में एक स्पष्टीकरण भी जारी किया था। लॉकडाउन के दौरान इफ्तार के समय से ठीक पहले एक अर्धन्यायिक संस्था के प्रमुख के खिलाफ इस तरह की कार्रवाई बताती है कि पुलिस किस हद तक जा सकती है।”

उन्होंने आरोप लगाया कि पूर्वोत्तर दिल्ली में हुई हिंसा के दौरान जान-माल के नुकसान के लिए जिम्मेदार लोगों को गिरफ्तार करने में विफल होने पर दिल्ली पुलिस मुसलमानों को निशाना बना रही है।

दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के प्रमुख ज़फरउल इस्लाम खान ने शुक्रवार को दिल्ली उच्च न्यायालय में एक अग्रिम जमानत याचिका दायर की और कहा, “वह दिल्ली पुलिस द्वारा दर्ज एक शिकायत में अपनी गिरफ्तारी को लेकर सशंकित हैं।” बता दें कि खान के खिलाफ सोशल मीडिया पर एक बयान के लिए देशद्रोह का मामला दर्ज किया गया था।

28 अप्रैल को उन्होंने फेसबुक एवं ट्विटर पर विवादास्पद पोस्ट डाला था। उसमें लिखा था, “ध्यान रखो कट्टरपंथियों, तुम्हारे घृणा अभियान, भीड़ हत्याओं और दंगों के विषय में अभी तक भारतीय मुसलमानों ने अरब से शिकायत करनी शुरू नहीं की है। जिस दिन वे ऐसा करने के लिए विवश हो जाएँगे, उस दिन हिमस्खलन हो जाएगा।”