समाचार
सावरकर-विरोधी बयान पर राहुल गांधी की निंदा करने वाले प्राध्यापक का झुकने से इनकार

राहुल गांधी की सावरकर-विरोधी टिप्पणी का विरोध करने के बाद अनिवार्य छुट्टी पर भेजे गए मुंबई विश्वविद्यालय के वरिष्ठ प्राध्यापक योगेश सोमन ने बुधवार (22 जनवरी) को कहा कि वे कांग्रेस नेता पर दिए अपने बयान पर कायम हैं।

सोमन ने आगे कहा कि उन्हें मीडिया के माध्यम से जबरन छुट्टी पर भेजे जाने की सूचना मिली और कहा कि जब आधिकारिक जाँच होगी तभी वे आधिकारिक बयान देंगे।

इससे पहले सोमन, जो मुंबई विश्वविद्यालय में थिएटर कला अकादमी के निदेशक के रूप में कार्य करते हैं, को राहुल गांधी की सावरकर-विरोधी टिप्पणी की आलोचना करने के बाद अनिवार्य अवकाश पर भेजा दिया गया था।

राहुल गांधी ने हाल ही में अपनी “भारत में बलात्कार” टिप्पणी के लिए माफी मांगने से इनकार करने के बाद सावरकर के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की थी, जिसने प्रोफेसर सोमन को राहुल गांधी की आलोचना करते हुए एक वीडियो पोस्ट करने के लिए प्रेरित किया।

इससे पहले राहुल गांधी ने यह कहते हुए माफी मांगने से इनकार करते हुए कहा था कि उनका, ‘नाम राहुल गांधी है, राहुल सावरकर नहीं’, प्रोफेसर सोमन ने कहा कि उनके पास न तो सावरकर का कोई गुण है और न ही गांधी का।

वीडियो में सोमन ने राहुल गांधी की “पप्पुगिरी” की भी निंदा की और कहा कि पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सावरकर उपनाम को ग्रहण करने के योग्य भी नहीं हैं।