समाचार
मुंबई- तीन पुलिसवालों की मौत के बाद 55 से अधिक आयु वाले सवेतन अवकाश पर रहेंगे

कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद मुंबई में तीन पुलिसकर्मियों की जान चली गई। सभी 50 वर्ष से अधिक आयु के थे। इसके बाद मुंबई पुलिस ने 55 वर्ष से अधिक आयु के सभी कर्मचारियों को वेतन के साथ अवकाश पर घर भेजने का निर्णय लिया है।

मुंबई पुलिस कमिश्नर परम बीर सिंह ने एहतियात के रूप में ऐसे कर्मचारियों के कोरोना से संक्रमित होने की अधिक आशंकाओं को देखने के बाद यह निर्णय लिया।

जो कर्मचारी 52 वर्ष से अधिक उम्र के हैं लेकिन उन्हें मधुमेह, उच्च रक्तचाप जैसी गंभीर बीमारियाँ हैं, वो भी घर में रहने के निर्देशों का पालन करेंगे। आधिकारिक प्रवक्ता के अनुसार, लॉकडाउन के दौरान स्थानीय पुलिस स्टेशन के कर्मचारी 12 घंटे की ड्यूटी और 24 घंटे आराम की व्यवस्था पर ही काम करेंगे।

हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की गोलियाँ 12,000 कर्मियों को चिकित्सकों की देखरेख में दी जा रही हैं। मुंबई पुलिसकर्मियों की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए उनमें से 20,000 लोगों को मल्टी-विटामिन और प्रोटीन सप्लीमेंट दिए जा रहे हैं।

महामारी के बीच ड्यूटी पर जाने के दौरान सभी पुलिसकर्मियों को भोजन के पैकेट, राशन, गर्म पानी के फ्लास्क, पंडाल के अलावा चेक-पोस्ट पर पर्याप्त व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण, फेस मास्क, सेनिटाइजर, दस्ताने, फेस शील्ड आदि दिए गए हैं।

आराम करने के इच्छुक कर्मचारियों के लिए ठहरने की व्यवस्था की गई है। प्रवक्ता ने कहा कि राज्य सरकार ने कोरोनावायरस से लड़ने वाले सभी कर्मियों को 50 लाख रुपये की अनुग्रह राशि प्रदान की है। समर्पण के साथ शहर की सेवा करते हुए अपने परिवार संग मजबूत और सुरक्षित रहने में सक्षम बनाने के लिए हमारी ओर से सभी तरह की कोशिशें की जा रही हैं।”