समाचार
निज़ामुद्दीन की धार्मिक सभा में हिस्सा लेने वाले 10 इंडोनेशियाई नागरिक गिरफ्तार

मुंबई पुलिस ने उन दस इंडोनेशियाई नागरिकों को भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की कई धाराओं के तहत गिरफ्तार किया है, जिन्होंने नई दिल्ली के निज़ामुद्दीन में हुई तबलीगी जमात की धार्मिक सभा में हिस्सा लिया था।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, मुंबई पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए दस लोग 12 जमातियों के एक समूह का हिस्सा थे, जिनका एक अप्रैल को पता चला था। समूह के दो जमातियों का कोविड-19 परीक्षण किया गया, जिसके बाद बाकी अन्य को 20 दिनों की अवधि के लिए क्वारंटीन कर दिया गया था। बाद में उनकी रिपोर्ट नकारात्मक आने के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

रिपोर्ट के अनुसार, अभियुक्तों को 23 अप्रैल को गिरफ्तार किया गया था, जिन पर धारा 269 (लापरवाही में खतरनाक बीमारी के संक्रमण को फैलाने के लिए लोगों की ज़िंदगी खतरे में डालना ), धारा 270 (जिंदगी को खतरे में डालकर खतरनाक बीमारी के संक्रमण को फैलाने की संभावना) और धारा 188 के तहत मामला दर्ज किया गया। ये सभी 28 अप्रैल तक पुलिस हिरासत में हैं।

इस बीच समूह के दो व्यक्ति जिन्हें वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद बांद्रा के लीलावती अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, उनकी रिपोर्ट परीक्षण के बाद अब नकारात्मक आई है। इन दोनों को आठ मई के बाद अस्पताल से निकाला जाएगा।

12 इंडोनेशियाई नागरिक 29 फरवरी को भारत आए थे। मार्च में निज़ामुद्दीन में हुई धार्मिक मंडली की सभा के बाद उन्होंने सात मार्च को मुंबई की यात्रा की थी। वहाँ उन्होंने शहर के विभिन्न स्थानों का दौरा किया था।