समाचार
मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए रेलवे तीन महीने में निकालेगा टेंडर

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वीके यादव ने सोमवार (3 अगस्त) को कहा, “कोविड​​-19 महामारी के कारण हुए व्यवधान और देरी के बावजूद अहमदाबाद और मुंबई के बीच बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए 60 प्रतिशत भूमि का अधिग्रहण कर लिया गया है।”

उन्होंने कहा, “बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण का लगभग 90 प्रतिशत काम पूरा होने के बाद हाई-स्पीड रेल कॉरिडोर के एक सेक्शन के निर्माण के लिए टेंडर तीन महीने के भीतर निकाला जाएगा।”

भारतीय रेलवे गुजरात में भूमि अधिग्रहण 76 प्रतिशत पूरा कर चुकी है, जबकि महाराष्ट्र में यह आँकड़ा 24 प्रतिशत है। परियोजना के लिए कुल भूमि अधिग्रहण 60 फीसदी है।

हालाँकि, वीके यादव ने भरोसा जताया है कि अगले छह महीनों में भूमि अधिग्रहण का अधिकांश काम पूरा हो जाएगा। इसे देखते हुए प्रक्रिया में तेजी आनी शुरू हो गई है।

वीके यादव के हवाले से कहा गया, “बड़ी परियोजनाओं में हम हम निविदा के लिए तब जाते हैं, जब 90 प्रतिशत भूमि का अधिग्रहण हो जाता है। हम जब कुछ और भूमि का अधिग्रहण करेंगे और निर्बाध रूप से भूमि हासिल हो जाएगी, तब हम आगे बढ़ेंगे। फिलहाल, परियोजना अच्छी प्रगति पर है। हम तीन महीने में टेंडरिंग के साथ आगे बढ़ेंगे।”

इस बीच, भारतीय रेलवे ने परियोजना के लिए डिजाइन और एलाइनमेंट को पूरा कर लिया है। इससे पूर्व, गत माह रेलवे ने कहा था कि हाई स्पीड रेल कॉरिडोर, जिसकी दिसंबर 2023 समय सीमा है, कोविड-19 के बावजूद समय पर परियोजना पूरी होने की उम्मीद है।