समाचार
महाराष्ट्र में बुलेट ट्रेन के लिए शीघ्र भूमि अधिग्रहण न हुआ तो गुजरात चरण पहले खुलेगा

महाराष्ट्र में महा विकास अघाड़ी के नेतृत्व वाली सरकार भूमि अधिग्रहण प्रक्रिया से जूझ रही है। वहीं नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (एनएचएसआरसीएल) ने गुरुवार (4 मार्च) को कहा कि अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन कॉरिडोर का गुजरात चरण पहले खोला सकता है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, गुजरात की जनता और सरकार को सहयोग के लिए धन्यवाद देते हुए एनएचएसआरसीएल के प्रबंध निदेशक अचल खरे ने बताया कि गुजरात में 352 किलोमीटर लंबे खंड के लिए आवश्यक भूमि का 95 प्रतिशत अधिग्रहण कर लिया गया है। वहीं, महाराष्ट्र में 156 किलोमीटर लंबे खंड के लिए केवल 23 प्रतिशत भूमि का अधिग्रहण किया गया है।

उन्होंने इस बात पर बल दिया कि पूरे बुलेट ट्रेन कॉरिडोर को एक साथ तभी खोला जा सकता है अगर अगले तीन महीनों में महाराष्ट्र में 70 से 80 प्रतिशत भूमि का अधिग्रहण कर लिया जाए। इसके अतिरिक्त गुजरात हिस्से को पहले चरण में और महाराष्ट्र हिस्से को दूसरे चरण में खोला जाएगा।

खरे के हवाले से कहा गया, “महाराष्ट्र में भूमि अधिग्रहण को लेकर कई मुद्दे हैं। परियोजना के गुजरात चरण को खोलने के लिए हम अपने जापानी समकक्षों के साथ बातचीत कर रहे हैं।”

उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि परियोजना के लिए दी गई 2023 की समय सीमा अब संभव नहीं लग रही और गुजरात में 2024 के अंत में काम पूरा होने की उम्मीद है।