समाचार
मैनपुरी में मायावती और मुलायम गेस्ट हाउस कांड के 24 साल बाद मंच पर साथ

24 साल की कड़वाहट भूलने के बाद सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव और बसपा प्रमुख मायावती ने एक साथ मैनपुरी में मंच साझा करते हुए चुनावी रैली को संबोधित किया। मायावती ने मुलायम सिंह यादव को पिछड़ों के असली नेता बताया। उन्होंने कहा, “मुलायम सिंह जी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह फर्जी नहीं बल्कि असली नेता हैं।”

टाइम्स ऑफ इंडिया रिपोर्ट के अनुसार, मायावती ने 1995 में गेस्ट हाउस कांड के बाद सपा से सारे रिश्ते खत्म कर लिए थे। इस कांड में बसपा प्रमुख पर हमला भी किया गया था। मुलायम और मायावती की यह रैली क्रिश्चियन कॉलेज के ग्राउंड पर आयोजित की गई, जहां पर मुख्य रूप से सपा के समर्थकों की संख्या ज्यादा थी।

मंच से मुलायम ने भीड़ को संबोधित करते हुए कहा, “मैं और मायावती लंबे समय बाद एक ही मंच पर आ गए हैं। हम उनका शुक्रिया अदा करने के साथ स्वागत करते हैं। मायावती ने सपा से हाथ मिलाने की वजह यह कहकर स्पष्ट की कि कभी-कभी जनहित में कुछ कठिन फैसले लेने पड़ते हैं।

मायावती ने कहा, “मैं जानती हूं कि लोग सोच रहे होंगे कि गेस्ट हाउस कांड के बावजूद मैं मुलायम सिंह जी के लिए प्रचार करने क्यों आई हूं। कभी-कभी जनहित और पार्टी आंदोलन में कुछ कठिन फैसले लेने पड़ते हैं।”