समाचार
कर्नाटक, गोवा जैसा राजनीतिक संकट बचाने मध्य प्रदेश पहुँचे ज्योतिरादित्य सिंधिया

कर्नाटक और गोवा में कांग्रेस राजनीतिक संकट का सामना कर रही है। उसके विधायक बगावत कर चुके हैं या फिर पक्ष बदल चुके हैं। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, ऐसे में इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो इसके लिए महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया को मध्य प्रदेश भेजा गया।

पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के अनुसार, सिंधिया गुरुवार को भोपाल पहुँचे और मुख्यमंत्री कमलनाथ से उनके आवास पर दोपहर के भोजन पर मुलाकात की।

पार्टी महासचिव ने राज्य विधानसभा का दौरा किया और कॉफी हाउस में लोगों से बातचीत की। शाम को उन्होंने अपने प्रमुख समर्थक और राज्य के कैबिनेट मंत्री तुलसीराम सिलावत के आवास पर पार्टी और उसके सहयोगियों के अधिकांश राज्य मंत्रियों और विधायकों से भेंट की।

रिपोर्ट के अनुसार, कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने दावा किया कि पाला बदलने के लिए तैयार कम से कम 10-15 कांग्रेस विधायकों से भाजपा ने पिछले एक महीने में संपर्क किया है।

कांग्रेस पार्टी ने यह कदम तब उठाया, जब गोवा के 15 में से 10 विधायकों ने भाजपा में शामिल होने के लिए अपना पक्ष रखा। साथ ही कर्नाटक में जनता दल (एस) के साथ 13 महीने पुरानी गठबंधन सरकार 13 से अधिक विधायकों के इस्तीफे के बाद राजनीतिक संकट का सामना कर रही है।