समाचार
चार दिनों में 60,000 से अधिक कर्मचारियों ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना में दिखाई रुचि

60,000 से भी अधिक बीएसएनएल एवं एमटीएनएल के कर्मचारियों ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना का भागीदार बनने के लिए आवेदन दिया है। दूरसंचार सचिव अंशु प्रकाश ने शुक्रवार (8 नवंबर) को इस बात का खुलासा किया।

अंशु प्रकाश ने दूरसंचार विभाग के एक कार्यक्रम में बताया कि 57,000 से ज़्यादा कर्मचारी बीएसएनएल के हैं और करीब3,000 कर्मचारी एमटीएनएल से हैं।

दूरसंचार सचिव ने बताया कि स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना को बेहद आकर्षक बनाया गया है और इस योजना को कर्मचारियों की ओर से अभूतपूर्व प्रतिक्रिया मिली है। सरकार का दोनों कंपनियों को मिलाकर कुल लक्ष्य 94,000 है।

आपको बता दें पिछले महीने सरकार ने बीएसएनएल एवं एमटीएनएल के लिए 69,000 करोड़ रुपए के पैकेज की घोषणा की थी।

इस पैकेज में घाटे में चल रही दोनों कंपनियों के विलय, संपत्ति की मुद्रीकरण और कर्मचारियों को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति की बात कही गई थी ताकि इस संयुक्त कंपनी को अगले दो वर्षों में मुनाफे में लाया जा सके।

बीएसएनएल और एमटीएनएल के कर्मचरियों की 1.76 लाख की कुल संख्या में लगभग 1 लाख कर्मचारी इस योजना के लिए पात्रता रखते हैं। 1.06 लाख कर्मचारी 50 साल से ऊपर की आयु के हैं।

53.5 वर्ष की आयु से अधिक के कर्मचारियों को उनके वेतन का 125 प्रतिशत दिया जाएगा जिसको ले अपनी बची हुई नौकरी के दौरान अर्जित कर सकते थे। 50 से 53.5 वर्ष की आयु वाले कर्मचारियों को उनकी शेष सेवा में मिलने वाले पारिश्रमिक का 80-100 प्रतिशत  दिया जाएगा।

55 वर्ष का आयु से अधिक वाले कर्मचारियों को 60 वर्ष की आयु के बाद ही पेंशन मिलेगी।