समाचार
मुरादाबाद- जब लेने गई टीम तो हुआ था हमला, अब परिवार के तीसरे व्यक्ति की मौत

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में 13 अप्रैल को 49 वर्षीय व्यक्ति की कोरोनावायरस से मौत हुई थी। अब उसी परिवार के एक और व्यक्ति का शनिवार को वायरस से संक्रमित होने की वजह से निधन हो गया। यह उसी परिवार के लोग हैं, जिन्हें बीते दिनों पुलिस व स्वास्थ्य अधिकारियों की टीम लेने आई थी और उन पर हमला कर दिया गया था।

44 वर्षीय व्यक्ति 20 दिनों में परिवार के मरने वाले लोगों में तीसरा भाई था। इससे पूर्व उसके 70 वर्षीय भाई की मौत अज्ञात बीमारी से हुई और उसे पाँच अप्रैल को गुप्त रूप से दफना दिया गया। 13 अप्रैल को दूसरे भाई सरताज की मौत के बाद परिवार के करीब 31 लोगों को पृथक केंद्रों में रखा गया।

सरताज को तीर्थंकर महावीर विश्वविद्यालय के मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। उसकी 13 अप्रैल को आई रिपोर्ट में वह सकारात्मक पाया गया। उसी रात सरताज की मौत हो गई थी। 13 अप्रैल को मामला सामने आने के बाद क्षेत्र को हॉटस्पॉट घोषित कर दिया गया।

गौर करें तो स्वास्थ्य विभाग और पुलिस की एक टीम पर 15 अप्रैल को मुरादाबाद के हाजी नेब मस्जिद क्षेत्र में उस समय क्रूरता से हमला हुआ, जब वे सरताज के परिवार को उनकी मृत्यु के बाद पृथक केंद्र ले जाने आए थे।

हमले में मुरादाबाद के नवाबपुरा क्षेत्र में कई पुलिस और स्वास्थ्यकर्मी घायल हुए थे। पथराव में एम्बुलेंस और चार अन्य वाहन क्षतिग्रस्त कर दिए गए थे। मामले में अब तक सात महिलाओं सहित 17 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

परिवार में पहले मरने वाले 70 वर्षीय व्यक्ति के संक्रमित होने का संदेह स्वास्थ्य अधिकारियों को था क्योंकि वह गत माह दिल्ली निज़ामुद्दीन में तबलीगी जमात की मंडली में शामिल हुआ था। मुरादाबाद में अब तक चार मौतों सहित 101 मामले वायरस से संक्रमित पाए गए हैं।