समाचार
एमएसएमई में खुदरा व थोक व्यापार सम्मिलित, 2.5 करोड़ व्यापारियों को मिलेगा लाभ

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शुक्रवार (2 जुलाई) को एमएसएमई की परिधि में खुदरा और थोक व्यापार को लाकर एमएसएमई के लिए संशोधित दिशा-निर्देशों की घोषणा की।

एक ट्वीट में उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार इसको सशक्त बनाने और उसे आर्थिक विकास का इंजन बनाने के लिए प्रतिबद्ध है।

गडकरी ने कहा कि संशोधित दिशा-निर्देशों से 2.5 करोड़ खुदरा और थोक व्यापारियों को लाभ मिलेगा। खुदरा और थोक व्यापार को एमएसएमई की परिधि से बाहर रखा गया था। अब संशोधित दिशा-निर्देशों के तहत खुदरा और थोक व्यापार को भी आरबीआई के दिशा-निर्देशों के तहत प्राथमिकता वाले क्षेत्र के लिए ऋण मिलने से लाभ होगा।

संशोधित दिशा-निर्देशों के साथ खुदरा और थोक व्यापारी अब उद्यम पंजीकरण पोर्टल पर पंजीकरण कर सकते हैं। हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी सरकार ने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) के लिए पंजीकरण प्रक्रिया को सरल बनाया था। उन्हें अब पंजीकरण के लिए केवल आधार और पैन की आवश्यकता होगी।

नवंबर 2018 में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा शुरू की गई यह योजना एमएसएमई को संयंत्र और मशीनरी खरीदने, प्रौद्योगिकी उन्नयन, उत्पाद विस्तार, कच्चे माल की खरीद, इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास आदि के लिए टर्म लोन, मुद्रा ऋण और कार्यशील पूंजी ऋण प्रदान करती है।