समाचार
पीएलआई योजना के तहत दूरसंचार व नेटवर्किंग उपकरणों के लिए 12,195 करोड़ रुपये

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 12,195 करोड़ रुपये के बजटीय परिव्यय के साथ दूरसंचार और नेटवर्किंग उत्पादों के लिए उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना को स्वीकृति दी है।

संचार मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि मेक इन इंडिया को प्रोत्साहित करने के लिए पीएलआई योजना का उद्देश्य भारत में दूरसंचार व नेटवर्किंग उत्पादों के घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए वित्तीय प्रोत्साहन को बढ़ाना और दूरसंचार व नेटवर्किंग उत्पादों के क्षेत्रों में निवेश आकर्षित करना है।

यह योजना दूरसंचार और नेटवर्किंग उत्पादों के निर्यात को प्रोत्साहित करती है, जो मेड इन इंडिया है। योजना के तहत समर्थन भारत में दूरसंचार और नेटवर्किंग उत्पादों के निर्माण में लगी कंपनियों को दिया जाएगा। वैश्विक स्तर पर दूरसंचार और नेटवर्किंग उत्पाद 100 अरब अमेरिकी डॉलर के निर्यात का अवसर है, जिसका लाभ भारत उठा सकता है।

योजना के तहत समर्थन के साथ भारत वैश्विक कंपनियों के बड़े निवेश को आकर्षित करके क्षमताओं में वृद्धि कर सकता है। इसके अलावा, होनहार घरेलू कंपनियों को बड़े अवसरों को देने और निर्यात बाज़ार में बड़ी कंपनियों के रूप में उभारने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है।

इस योजना के साथ पाँच वर्षों में लगभग 2 लाख करोड़ रुपये का वृद्धिशील उत्पादन प्राप्त होने की उम्मीद है। इस प्रकार भारत विनिर्माण मूल्य में वृद्धि के साथ अपनी प्रतिस्पर्धात्मकता में सुधार कर सकता है।