समाचार
‘नल से जल’ योजना- देश के हर व्यक्ति को 55 लीटर पानी उपलब्ध कराएगी मोदी सरकार

मोदी सरकार का अगला प्रमुख जन कार्यक्रम नल से जल योजना हो सकती है। एक अधिकारी के अनुसार, इस योजना के अंतर्गत जल जीवन मिशन में प्रत्येक व्यक्ति को प्रति दिन 55 लीटर पानी देने का प्रस्ताव है।

हिंदुस्तान टाइम्स  
के अनुसार अधिकारियों का कहना है कि 2024 तक सभी ग्रामीण परिवारों के लिए ‘नल से जल’ सुनिश्चित करने की योजना के शेष तौर-तरीके सुनिश्चित होने के बाद मंज़ूरी के लिए कैबिनेट के समक्ष प्रस्तुत किए जाएँगे। योजना के प्रमुख प्रस्तावों में मौसम के आधार पर 43-55 लीटर प्रति व्यक्ति प्रति दिन (एलपीसीडी) सुनिश्चित किया जा रहा है, जिसमें निचली सीमा केवल कमज़ोर मौसम के लिए लागू की जाएगी।

वहीं दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, इस योजना पर विचार के लिए जलशक्ति मंत्रालय ने दो दिन पहले सभी राज्यों के साथ बैठक की थी, जिसमें अधिकांश राज्य जल सीमा को 55 ‌‌‌लीटर से बढ़ाकर 70 लीटर करने की मांग रखी है।

योजना का एक बड़ा हिस्सा महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के माध्यम से पूरा किया जाएगा। जल जीवन मिशन के लिए एक फंड- राष्ट्रीय जल जीवन कोष के रूप में नामित किए जाने की संभावना है, जिसे स्वच्छ भारत कोष की तर्ज पर तैयार किया जा सकता है।

स्वच्छ भारत कोष अपने पहले कार्यकाल की शुरुआत में पीएम मोदी द्वारा शुरू किए गए स्वच्छ भारत मिशन के लिए परोपकारी और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (सीएसआर) को सुव्यवस्थित करता है।

जल जीवन मिशन एक ऐसे समय में शुरू किया गया है, जब भारत के बड़े हिस्से को जल सुरक्षा के मामले में अत्यधिक तनाव के रूप में वर्गीकृत किया गया है। नीति आयोग की रिपोर्ट में कहा गया था कि 60 करोड़ भारतीय एक तीव्र जल संकट का सामना कर रहे हैं, जो जलवायु परिवर्तन और अन्य कारकों के साथ और खराब होता जाएगा।