समाचार
पोप ने माना बिशॉप-पादरी करते हैं यौन शोषण, लेकिन नन कार्यवाही से खुश नहीं

रोमन कैथोलिक चर्च के प्रमुख पोप फ्रांसिस ने 5 फरवरी 2019 को माना कि पादरी और बिशॉप ननों का यौन शोषण करते हैं और उन्होंने एक ऐसी घटना भी बताई जहाँ सिस्टर को यौन दासी बनाकर रखा गया था, बीबीसी  ने बताया।

“कई पादरी और कुछ बिशॉप ने भी ऐसा किया है।”, क्रिस्टनडम में यौन शोषण पर एक पत्रकार के प्रश्न पर पोप ने बताया। उन्होंने माना कि यह समस्या अभी भी है लेकिन विशेषकर नव स्थापित मंडलियों में ये घटनाएँ सामने आ रही हैं।

फ्रांसिस ने कहा कि चर्च ने यौन शोषण के आरोपी कई पादरियों को भी निलंबित किया है और इस मामले को सुलझाने के लिए वैटिकन कार्यरत है। वहीं दूसरी ओर वैटिकन महिला पत्रिका की संपादक लूसीटा स्कारफिया ने वैटिकन चर्च वर्ल्ड के फरवरी संस्करण में लिखा है, “इन घटनाओं पर चर्च अपनी आँखें मूंदे हुए है। इससे और बुरा यह है कि अवांछनीय गर्भ धारण से गर्भपात करवाने और पिता के नाम विहीन बच्चों की संख्या बढ़ रही है। चर्च में महिलाओं का शोषण कभी नहीं बदलेगा।”