समाचार
संस्कृति मंत्रालय की पंचवर्षीय योजना- 27,000 करोड़ में पर्यटन स्थल विकास प्राथमिकता

संस्कृति मंत्रालय ने 15वें वित्त आयोग को 26,549 करोड़ रुपये की योजना प्रस्तुत की है। इसमें मंत्रालय ने 2020 से 2025 तक की अपनी योजनाओं का विवरण दिया है।

ईटी  की रिपोर्ट के अनुसार, मंत्रालय ने अपनी योजना के एक हिस्से के रूप में हम्पी और सिंधु घाटी सहित 11 ऐतिहासिक स्थलों के एक प्रामाणिक पुनर्निर्माण की कल्पना के साथ भारतीय संस्कृति संस्थान (आईआईसी) स्थापित करने की मंशा जताई है। ग्रीस में एक्रोपोलिस की तर्ज पर 100 प्रायोगिक संग्रहालयों को भी 5 साल में स्थापित करने की योजना है।

राशि का एक चौथाई हिस्सा भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को पुनर्जीवित करने में लगाया जाएगा, जो स्मारकों पर पर्यटकों की सुविधाओं को सुनिश्चित करेगा। तकनीकी ऐड्स का उपयोग आईवीसी साइट्स के प्रामाणिक पुनर्निर्माण के लिए होगा, जिस तरह धोलावीरा और राखीगढ़ी आईआईटी बॉम्बे के साथ नोडल साइट के रूप में सेवारत हैं।

दस्तावेज़ में राष्ट्रीय और अंतर-राष्ट्रीय दोनों स्तरों पर राखी, करवा चौथ, तीज, भाई दूज जैसे भारतीय त्योहारों को प्रदर्शित करने और उनको बढ़ावा देने के लिए एक योजना भी रखी जाएगी।