समाचार
डीटीएच के 12 चैनलों से मानव संसाधन विकास मंत्रालय विद्यालयी छात्रों को करेगा शिक्षित

मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रालय ने विद्यालयी छात्रों की मदद के लिए टीवी पर 12 डायरेक्टर टू होम (डीटीएच) चैनलों को प्रसारित करने की योजना बनाई है। एचटी की रिपोर्ट के अनुसार, यह कदम उनके लिए फायदेमंद होगा, जिन्हें लॉकडाउन की वजह से पढ़ाई करने में मुश्किल आ रही है। हरेक चैनल एक वर्ग को समर्पित होगा।

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने रिपोर्ट में कहा, “मंत्रालय एक कक्षा, एक चैनल योजना की ओर देख रहा है। स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग इन 12 चैनलों को हर वर्ग के लिए उपयुक्त सामग्री के साथ मुहैया कराएगा। एनसीईआरटी और सीबीएसई जैसी एजेंसियों की विशेषज्ञता का उपयोग सामग्री को विकसित करने और चैनलों को चलाने के लिए किया जा सकता है।”

कोविड-19 की वजह से बहुत से स्कूलों और संस्थानों ने ऑनलाइन कक्षाएँ शुरू कर दी हैं। हालाँकि, सभी लोगों तक डिजिटल पहुँच की कमी इसके रास्ते में रोड़ा बनी है।

अधिकारी का कहना है कि इंटरनेट हर किसी तक नहीं पहुँच सकता है। इस वजह से मानव संसाधन विकास मंत्रालय रेडियो और टेलीविजन की ओर शिक्षा के विस्तार के लिए देख रहा है। प्रमुख पहल में से एक 12 डीटीएच चैनल शुरू करना है। इसमें हरेक चैनल एक कक्षा के लिए होगा। उपयुक्त शिक्षा की सामग्री अलग-अलग भाषाओं में घरों तक पहुँचाई जाएगी। ये चैनल मुफ्त होंगे।”

मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने गत माह कहा था, “हमारे मंत्रालय ने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के साथ समझौता डीटीएच मंच टाटा स्काई और एयरटेल डीटीएच पर स्वयं प्रभा चैनलों को प्रसारित करने के लिए किया था। स्वयं चैनल्स डीडी-डीटीएच, डिश टीवी और जियो टीवी ऐप पर उपलब्ध हुए थे। उन्होंने दूरस्थ स्थानों तक शिक्षा सामग्री पहुँचाने के लिए ऑल इंडिया रेडियो के उपयोग के विकल्प के बारे में संभावनाएँ तलाशने की बात कही थी।