समाचार
गृह मंत्रालय से तथ्य छिपाने के लिए टीआरएस विधायक रमेश चिन्नमनेनी की नागरिकता रद्द

केंद्रीय गृह मंत्रालय से महत्वपूर्ण तथ्यों को छिपाने और धोखाधड़ी से नागरिकता प्राप्त करने की वजह से मंत्रालय ने तेलंगाना विधायक रमेश चिन्नमनेनी की नागरिकता रद्द कर दी है, इंडिया टुडे  ने रिपोर्ट किया।

इसके बाद तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के विधायक रमेश चिन्नमनेनी ने न्यायालय का रुख करने का निर्णय लिया है।

बुधवार को आदेश जारी कर गृह मंत्रालय ने कहा, “1955 के नागरिकता कानून की धारा 10 के तहत डॉ रमेश चिन्नमनेनी से भारत का नागरिक होने का अधिकार छीना जाता है। डॉ चिन्नमनेनी को यदि अभी भी भारत का नागरिक बने रहने दिया गया तो ये जनता की भलाई के अनुकूल नहीं होगा।”

सरकार के अनुसार चिन्नमनेनी के पास जर्मनी की नागरिकता है और 2009 में उन्होंने भारत की नागरिकता हासिल करने का सही तरीका नहींं अपनाया।

बता दें कि कांग्रेस नेता ए श्रीनिवास ने विधायक के रूप में  चिन्नमनेनी के चुनाव को चुनौती देते हुए उनके खिलाफ शिकायत दर्ज की थी।

“शुरुआत में उनके द्वारा तथ्यों/बयानों को गलत तरीके से पेश कर भारत सरकार को अपना निर्णय लेने में भ्रमित किया गया। क्या उन्होंने यह बताया था कि नागरिकता के लिए आवेदन करने से पहले वे एक साल भारत में नहीं रहे? यदि उन्होंने ऐसा बताया हो तो गृह मंत्रालय के सक्षम अधिकारी उन्हें कभी भी नागरिकता नहीं प्रदान करते हैं।”, गृह मंत्रालय के आदेश में कहा गया।