समाचार
“चोकसी की नागरिकता रद्द की जाएगी, भेजा जाएगा भारत”- एंटीगुआ के प्रधानमंत्री

एंटीगुआ सरकार ने भारत से भागे आर्थिक अपराधी मेहुल चोकसी की नागरिकता रद्द करने का निर्णय लिया है, जागरण  ने रिपोर्ट किया। प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने नागरिकता रद्द करने की बात के साथ चोकसी को भारत वापस भेजने की बात भी कही।

“मैं आश्वासन देता हूँ कि उसके (मेहुल चौकसी के) सारे वैधानिक रास्ते बंद हो जाने के बाद उसका भारत को प्रत्यर्पण कर दिया जाएगा।”, ब्राउन ने कहा। भारत के साथ कोई प्रत्यर्पण संधि न होने के कारण एंटीगुआ को अपराधी सुरक्षित समझते हैं लेकिन इस बात को साफ करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, “यह देश अपराधियों के लिए सुरक्षित स्थान नहीं बनेगा, उनके लिए नहीं जो आर्थिक अपराधी हैं।”

प्रधानमंत्री ने यह बात भी साफ की कि नागरिकता देते समय उसके अपराध सामने नहीं आए थे इसलिए वह सभी प्रक्रियाओं से सफलतापूर्वक पास हो गया। जनवरी 2018 में भारत से भागने के छह महीनों बाद चोकसी ने नागरिकता ले ली थी।

चोकसी ने पंजाब नेशनल बैंक में 13,500 करोड़ रुपये का घोटाला किया था। चोकसी ने भारत आने से बचने के लिए खराब स्वास्थ्य की बात कही थी जिसके लिए बॉम्बे उच्च न्यायालय ने रिपोर्ट माँगी है। विशेषज्ञों की टीम 9 जुलाई को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।