समाचार
हरीश साल्वे को चोकसी मामले में चाहती सरकार, भारत का पक्ष रखने डोमनिका जा सकते

मेहुल चोकसी के मामले में केंद्र सरकार बेहतरीन वकील हरीश साल्वे की मांग कर रही है। साथ ही यह संभावना जताई जा रही है कि वे भारत के मामले को डोमिनिका उच्च न्यायालय के समक्ष भी पेश कर सकते हैं, जहाँ चोकसी के वर्तमान में कैरिबियाई देश में अवैध रूप से प्रवेश करने का मामला चल रहा है।

सोमवार (7 जून) को जारी एक बयान में हरीश साल्वे ने कहा, ”मेहुल चोकसी मामले में क्या कदम उठाए जाएँ, इसको लेकर मैं भारत सरकार को सलाह दे रहा हूँ। भारत सरकार डोमिनिका की न्यायालय में पेश होने वाली पार्टी नहीं है। हम सिर्फ डोमिनिका प्रशासन की सहायता कर रहे हैं।”

हरीश साल्वे ने अपने बयान में आगे कहा कि अगर डोमिनिका उच्च न्यायालय में भारत को सुनवाई का मौका दिया जाता है और वहाँ के अटॉर्नी जनरल अपनी न्यायालय में मेरे प्रवेश के लिए सहमत होते हैं तो मैं भारत का प्रतिनिधित्व करूँगा।

यह गौर किया जाना चाहिए कि इससे पहले हरीश साल्वे ने कुलभूषण जाधव मामले में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) में भारत के लिए मुख्य वकील के रूप में भी काम किया था।

इस बीच, मेहुल चोकसी मामले पर अगली सुनवाई अब डोमिनिका की उच्च न्यायालय में 15 जून के लिए निर्धारित की गई है। फिलहाल, पीएनबी घोटाले के आरोपी को रोसियू के डोमिनिका चाइना फ्रेंडशिप अस्पताल में रखा गया है और उसने जमानत मांगी है।