समाचार
महबूबा मुफ्ती ने कश्मीर में हिंसा रोकने के लिए पाकिस्तान से बात करने की दी सलाह

जम्मू-कश्मीर में शुक्रवार (19 फरवरी) को हुए आतंकी हमलों में तीन पुलिसकर्मियों के शहीद होने के एक दिन बाद पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने केंद्र सरकार से खून-खराबा रोकने के लिए पाकिस्तान से बातचीत करने को कहा है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, महबूबा मुफ्ती ने केंद्र सरकार से हिंसा न होने के लिए स्थानीय लोगों को भी संवाद में शामिल करने की मांग की है। वह शनिवार को अनंतनाग जिले के लोगरीपोरा ऐशमुकाम क्षेत्र में स्थित दिवंगत कांस्टेबल सुहैल अहमद के घर गई थीं।

उन्होंने कहा, “भाजपा सरकार विचार करे और संवाद प्रक्रिया शुरू करे। हमारे कब्रिस्तान भर गए हैं। संवाद प्रक्रिया चाहे यहाँ के लोगों से हो या फिर पाकिस्तान से क्योंकि वे हमेशा कहते हैं कि पड़ोसी देश यहाँ हिंसा फैलाता है। इसे रोकने के लिए बातचीत तो की ही जा सकती है।”

बता दें कि श्रीनगर के बाघाट क्षेत्र में हुए आतंकी हमले में कांस्टेबल सुहैल अहमद और एक अन्य पुलिसकर्मी भी वीरगति को प्राप्त हुआ था। इसके अलावा, शोपियां के बडगाम में आतंकियों से हुई मुठभेड़ में एक और पुलिसकर्मी  शहीद हो गया था।