समाचार
शाही मस्जिद पक्ष अपने ढाँचे को ध्वस्त करे तो उससे बड़ी भूमि देंगे- कृष्ण जन्मभूमि समिति

श्री कृष्ण जन्मभूमि मुक्ति आंदोलन समिति ने मंगलवार (22 जून) को मथुरा के वरिष्ठ जनपद न्यायाधीश के न्यायालय में अपने आवेदन में भगवान कृष्ण के जन्मस्थान पर बनी 17वीं शताब्दी की शाही मस्जिद की मस्जिद प्रबंधन समिति को भूमि का एक बड़ा टुकड़ा देने का प्रस्ताव दिया।

हिंदू संगठन ने कहा कि यदि मस्जिद की प्रबंधन समिति अपनी इच्छा से मुगल काल के ढाँचे को ध्वस्त करने के लिए सहमत हो जाती है तो वह वर्तमान से बड़ा भूमि का टुकड़ा देने को तैयार है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति आंदोलन समिति के अध्यक्ष अधिवक्ता महेंद्र प्रताप सिंह ने कहा, “इंतजामिया समिति (प्रबंधन समिति) को शाही मस्जिद ईदगाह से बड़ी भूमि का एक टुकड़ा दिया जाएगा।”

श्री कृष्ण जन्मस्थान मंदिर, जिसे कटरा केशव देव मंदिर के नाम से भी पहचाना जाता है, को इतिहास में कई बार नष्ट किया जा चुका है। आखिरी बार इसे औरंगज़ेब ने 1670 में नष्ट करके इसके स्थान पर एक मस्जिद का निर्माण करवाया था।

20वीं शताब्दी के अंत में उद्योगपतियों के एक समूह ने मथुरा में मूल मंदिर स्थल के बगल में वर्तमान मंदिर के निर्माण को प्रायोजित किया था। मस्जिद को उसके वर्तमान स्थान से हटाने के मुद्दे पर मथुरा की न्यायालयों में कई मामले लंबित हैं।