समाचार
ममता बनर्जी का दावा- हल कर सकती हैं कश्मीर मुद्दा, घोषणापत्र भी किया जारी

बुधवार (27 मार्च) को तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्षा और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कोलकाता में कहा कि वे कश्मीर का मुद्दा हल कर सकती हैं। बनर्जी ने कहा, “मुझे कश्मीर भेजो, मैं वहाँ कुछ महीने रहूँगी और कश्मीर के मसले को हल करने की कोशिश करूँगी।”, द स्टेट्समैन  ने रिपोर्ट किया।

यह बयान ममता बनर्जी ने अपनी पार्टी के घोषणापत्र को प्रस्तावित करते हुए दिया। पार्टी के घोषणापत्र में जीएसटी को आसान करने, योजना आयोग के पुनरुद्धार, कश्मीर के मसले को हल करने और एमजीनरेगा के तहत काम करने वालों को 200 दिन काम के साथ उनकी आय दोगुनी करने की बात कही गई है।

ममता बनर्जी ने कश्मीर मुद्दे को हल करने के लिए कहा कि उनके पास जंगलमहल और दार्जलिंग के माओवादियों को खत्म करने का अनुभव है जिससे वे कश्मीर का मसला हल कर सकती हैं। उन्होंने आगे कहा कि जब केंद्र में सरकार बदलेगी तो वे महागठबंधन के नेताओं से कश्मीर पर काम करने के अपने सुझाव उन्हें देंगी।

इसपर आगे उन्होंने कहा, “किसी भी हालत में कश्मीर में शांति और सामंजस्य वापस लेकर आना चाहिए। अगर नेता चाहेंगे तो वह मुझे कश्मीर भेज सकते हैं, मुझे वाहन-कुर्सी नहीं चाहिए। मैं वहाँ कुछ महीने रहूँगी और वहाँ की औरतों, युवाओं और विद्यार्थियों के साथ मिलकर इस मसले को हल करने की कोशिश करूँगी”।

जंगलमहल और दार्जलिंग के माओवादियों के बारे में बात करते हुए बनर्जी ने कहा, “लोगों को लगता था कि जंगलहल में कभी शांति वापस नहीं आ सकती, पर मैंने लोगों में विश्वास जगाया। उस इलाके में विकास परियोजनाओं को शुरू करवाया, लोगों को दो रुपये किलो चावल दिए, मैं जंगलमहल इलाके में फिर से शांति लेकर आई”।