समाचार
ममता बनर्जी ने गैर-भाजपा नेताओं को राजधानी कानून के विरुद्ध एकजुट होने को कहा

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के बीच राष्ट्रीय राजधानी राज्यक्षेत्र शासन (संशोधन) कानून 2021 के विरोध में विपक्षी पार्टी के नेताओं को भाजपा के खिलाफ एकजुट करने के लिए पत्र लिखा है।

एबीपी न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार, ममता बनर्जी ने कानून पर आपत्ति जताते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, शरद पवार, एमके स्टालिन, अखिलेश यादव, तेजस्वी यादव, उद्धव ठाकरे, हेमंत सोरेन, अरविंद केजरीवाल, जगन मोहन रेड्डी, नवीन पटनायक, केएस रेड्डी, फारुक अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और दिपांकर भट्टाचार्य को पत्र लिखा है।

उन्होंने पत्र में कहा, “जिस तरह से भाजपा ने एनसीआर अध्यादेश को पास करने की कोशिश की है, उसके खिलाफ आवाज़ बुलंद करनी आवश्यक है। यह एक गंभीर विषय है। भाजपा सरकार ने लोकतांत्रिक रूप से निर्वाचित सरकार की सभी शक्तियों को छीन लिया है।”

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने आगे कहा, “गैर भाजपा शासित राज्यों में केंद्र राज्यपाल के कार्यालय का दुरुपयोग कर निर्वाचित सरकारों के लिए मुश्किलें पैदा कर रहा है। उप राज्यपाल (एलजी) को दिल्ली का अघोषित वायसराय बना दिया गया, जो गृह मंत्री और प्रधानमंत्री के लिए एक प्रतिनिधि के रूप में काम कर रहे हैं।”