समाचार
ममता बनर्जी ने केंद्र को पत्र लिख की नेताजी की जयंती पर सार्वजनिक अवकाश की मांग

कोरोना संकट के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दीया जलाने की अपील को निजी बताने वाली पश्चिम बंगाल की मुख्मयंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार (4 जनवरी) को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर देशवासियों से शंख बजाने का अनुरोध किया है। साथ ही उन्होंने केंद्र सरकार को पत्र लिखकर मांग की है कि नेताजी से संबंधित सभी महत्वपूर्ण दस्तावेजों को सार्वजनिक किया जाए।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, ममता बनर्जी ने इस बाबत अपने पत्र और राज्य सरकार के निर्णय से जुड़ी कई जानकारियाँ भी साझा कीं। उन्होंने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जंयती को लेकर बड़ी घोषणा की। उन्होंने कहा, “बंगाल में नेताजी की जयंती पर देश नायक दिवस मनाया जाएगा।”

उन्होंने कहा, “मुझे व्यक्तिगत रूप से लगता है कि हमने स्वतंत्रता के बाद नेताजी के लिए कोई भी विशेष कार्य नहीं किए हैं। मैंने उनकी जयंती को राष्ट्रीय अवकाश के रूप में घोषित करने के लिए केंद्र सरकार को पत्र लिखा है।”

ममता बनर्जी ने आगे कहा, “अनिवासी भारतीयों सहित देश के सभी नागरिकों से मैं अनुरोध करती हूँ कि 23 जनवरी को नेताजी की जयंती पर सभी दोपहर 12.15 बजे शंख बजाएँ।”

इससे पूर्व, अप्रैल में कोरोना संकट की वजह से हुए लॉकडाउन के दौरान जब ममता बनर्जी से प्रधानमंत्री की दीपक जलाने की अपील के बारे में पूछा गया था तो उन्होंने कहा था, “यह लोगों का निजी मामला है। जिनको दीया जलाना हो, वे जलाएँ। मुझे सोना होगा तो मैं सोऊँगी। यह मामला पूरी तरह से निजी है।”