समाचार
ममता को कश्मीर में मानवाधिकार की चिंता, बंगाल में एक और भाजपा कार्यकर्ता की हत्या

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने परोक्ष रूप से केंद्र सरकार पर हमला बोला है। विश्व मानवता दिवस पर ट्वीट करते हुए ममता ने लिखा है कि कश्मीर में पूरी तरह मानव अधिकारों का उल्लंघन हुआ है। कश्मीर में शांति और मानवता के लिए प्राथना करें।

उन्होंने कुछ देर बाद एक और ट्वीट करते हुए लिखा, “मानवाधिकार मेरे दिल के बहुत करीब का विषय है। 1995 में, मैं लॉक-अप में मौतों के खिलाफ मानव अधिकारों के उल्लंघन की रक्षा के लिए 21 दिनों के लिए सड़क पर थी।”

दुर्भाग्यवश, जिस मानवाधिकार की बात ममता बनर्जी कर रही थीं, उन्हीं के शासन पर यह आरोप कई बार लग चुका है। मुख्य रूप से भाजपा यह आरोप लगाती रही है कि उसके कार्यकर्ताओं की हत्या सत्तारूढ़ दल के लोग ही कर रहे हैं, जिनके ऊपर ममता बनर्जी की छत्रछाया है।

टाइम्स ऑफ इंडिया  की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल 77 राजनीति हत्याएँ बंगाल में हुई है। रविवार (18 अगस्त) को भी इस तरह का एक मामला सामने आया, जिसमें एक भाजपा कार्यकर्ता की हत्या कर दी गई है। कार्यकर्ता की पहचान कादेर मोल्लाह के रूप में हुआ है, जो भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के अध्यक्ष थे।

मोल्लाह शनिवार (17 अगस्त) से ही लापता थे, जिसके बाद अगले दिन उनका शव मिला। पार्टी ने इस मामले में शिकायत दर्ज कराई है। शिकायत में तृणमूल के स्थानीय नेताओं पर हत्या का संदेह व्यक्त किया गया है।