समाचार
हड़ताल को वरिष्ठ डॉक्टरों का समर्थन, ममता की मनमानी पर 220 ने दिया त्यागपत्र

पश्चिम बंगाल में चल रही हड़ताल को वरिष्ठ डॉक्टरों का सहयोग प्राप्त हुआ है। राज्य के कई मेडिकल कॉलेजों में वरिष्ठ डॉक्टरों ने एकत्रित होकर त्यागपत्र दे दिया है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार 220 डॉक्टरों ने अभी तक पद त्याग दिया है।

एनआरएस मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल से 108, उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज से 27, आरजी कर मेडिकल कॉलेज से 69 और कलकत्ता नेशनल मेडिकल कॉलेज से 16 डॉक्टरों ने त्यागपत्र दे दिया है। कई जगहों पर इन वरिष्ठ डॉक्टरों के इस कदम का अभिवादन कनिष्ठों ने जय-जयकार से किया।

सबसे पहले एनआरएस मेडिकल कॉलेज के प्रधान सैबल मुखर्जी और उपाध्यक्ष सौरभ चटर्जी पद त्याग किया था। इससे पहले कलकत्ता उच्च न्यायालय ने पश्चिम बंगाल सरकार ने विरोध कर रहे डॉक्टरों से वार्ता कर सात दिनों के भीतर जवाब सौंपने के लिए कहा था।

17 जून से इंडियन मेडिकल असोसिएशन (आईएमए) ने भी सभी कम आवश्यक मेडिकल सेवाओं को बंद करने का आह्वान किया है। विरोधकर्ताओं की माँग है कि अस्पतालों में बेहतर सुरक्षा प्रदान की जाए।

कोलकाता के एनआरएस मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में 75 वर्षीय मरीज़ मोहम्मद शाहीद की मृत्यु के बाद 200 लोगों की भीड़ द्वारा दो जूनियर डॉक्टरों पर हमले के बाद से यह हड़ताल शुरू हुई है।