समाचार
मालविंदर माली ने छोड़ा नवजोत सिंह सिद्धू का सलाहकार पद, लगाए कई गंभीर आरोप

पंजाब कांग्रेस अध्‍यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकार मालवदिंर माली ने विवादित बयान देकर घिरने के बाद शुक्रवार (27 अगस्त) को अपना पद त्याग दिया। पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत ने नवजोत सिंह सिद्धू से तत्काल माली को पद से हटाने को कहा था।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, मालविंदर माली ने अपनी फेसबुक पोस्ट में आरोप लगाते हुए कहा, “नवजोत सिंह सिद्धू ने मुझे सलाहकार बनाने की जो स्वीकृति ली थी, मैं उसे वापस लेता हूँ। अगर मेरी जान को कोई नुकसान होता है तो इसके लिए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, सुखबीर सिंह बादल, बिक्रम सिंह मजीठिया, मनीष तिवारी, भाजपा सचिव सुभाष शर्मा, आप नेता जरनैल सिंह व राघव चड्ढा ज़िम्मेदार होंगे।”

उन्होंने कहा, “मैं पंजाब में लंबे समय से धार्मिक अल्पसंख्यकों, उत्पीड़ित लोगों, मानवाधिकारों, लोकतंत्र और संघीय ढांचे के लिए लड़ रहा हूँ। राज्य की वर्तमान राजनीति बौद्धिक दरिद्रता की शिकार है, जो इसकी बेहतरी के लिए सत्ता पक्ष के विरुद्ध किसी बड़े और प्रभावी बदलाव को सहन नहीं करती है।”

आखिर में माली ने कहा, “दिल्ली हाईकमान के लिए पंजाब सोने की खान बन गया है। यहाँ ऐसे राजनेताओं की कमी नहीं है, जो हाईकमान के लिए पंजाब विरोधी कुल्हाड़ी का दस्ता बनने हेतु एक-दूसरे से आगे निकलने की जल्दी में रहते हैं। मैं अब समान विचारधारा वाले साथियों से हाथ मिला कर संकीर्णता और संकीर्णता की राजनीति के विरुद्ध अपना संघर्ष जारी रखूँगा।”