समाचार
मलेशिया ने दक्षिण चीन सागर में चीन के विस्तारवादी प्रयासों को बताया गंभीर खतरा

दक्षिण चीन सागर में चीन की विस्तारवादी नीतियों के विरुद्ध उसे पीछे हटाने के लिए मलेशिया ने सार्वजनिक रूप से कड़ी प्रतिक्रिया दी है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, मलेशियाई विदेश मंत्रालय ने कहा है कि वह मलेशियाई समुद्री क्षेत्र में पीपल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के वायुसेना के विमानों के संचालन पर चीनी राजदूत को तलब करेगा।

यह गौर किया चाहिए कि रॉयल मलेशियाई वायुसेना ने अपने समुद्री क्षेत्र में चीनी सैन्य विमानों की उपस्थिति को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा बताया है।

कहा जाता है कि मलेशिया ने अपने तट से करीब 156 किलोमीटर दूर एक चीनी तट रक्षक जहाज़ को भी देखा था। यह महत्वपूर्ण है क्योंकि मलेशिया वहाँ पर प्राकृतिक गैस के लिए खुदाई करता है।

कथित तौर पर मलेशियाई समुद्री क्षेत्र में 100 से अधिक बार चीनी समुद्री घुसपैठ हुई है। इस तरह की सबसे हालिया घुसपैठ बेटिंग पटिंग्गी अली के पास हुई थी, जो मलेशिया के विशेष आर्थिक क्षेत्र (ईईजेड) में आता है। बेटिंग पटिंग्गी अली को लुसियानो शोल्स के नाम से भी जाना जाता है।