समाचार
एप्पल के चेन्नई प्लांट में बनेगा आईफोन-11, मेक इन इंडिया के कारण हो सकता है सस्ता

एप्पल ने चेन्नई के पास फॉक्सकॉन प्लांट में अपना एक शीर्ष उत्पाद बनाना शुरू किया है। देश में प्रमुख आईफोन-11 के निर्माण से सरकार की मेक इन इंडिया पहल को बढ़ावा मिलेगा। यह कदम अमेरिका-चीन संबंधों में तनाव को देखते हुए भी महत्वपूर्ण है।

द इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, उत्पादन को चरणों में बढ़ाया जाएगा। एप्पल आईफोन-11 को भी निर्यात कर सकता है। इससे चीन पर निर्भरता कम करने में भी मदद मिलेगी।

भारत में हैंडसेट के लिए कीमतों में कमी नहीं की गई है क्योंकि चीन निर्मित आईफोन 11 भी देश में बेचा जा रहा है। बाद में कीमतों में कमी की जा सकती है। विशेषज्ञों की मानें तो स्थानीय उत्पादन एप्पल के लिए 22 प्रतिशत आयात शुल्क बचाता है।

कंपनी बेंगलुरु के पास विस्ट्रॉन प्लांट में नया आईफोन एसई बनाने की भी योजना बना रही है। प्लांट पहले भी आईफोन एसई बनाने के लिए इस्तेमाल किया गया था। भारत पहले से ही फॉक्सकॉन प्लांट में आईफोन एक्सआर और वेस्ट्रॉन कारखाने में आईफोन 7 बनाता है।

स्थानीय रूप से निर्मित हैंडसेट की आपूर्ति पहले ही दुकानों तक पहुँच गई है। इस बीच, एप्पल की देश में विनिर्माण के विस्तार की योजना भी है। इसके आपूर्तिकर्ता फॉक्सकॉन भारत में एक अरब डॉलर तक निवेश करने की योजना बना रहा है। रिपोर्ट के अनुसार, चेन्नै के पास प्लांट में फॉक्सकॉन का नियोजित निवेश तीन साल के लिए होगा।