समाचार
कांग्रेस घोषणा पत्र में 350 और विज्ञापन में 269 वर्गफुट का मकान दे रही, दिल्ली भ्रम में

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के घोषणा पत्र में काफी असमानताएँ नज़र आ रही हैं। सबसे बड़ी असमानता आशियाना देने के वादे पर है। घोषणा पत्र में 350 वर्ग फुट घर देने की बात की जा रही है, जबकि प्रचार सामग्री और विज्ञापन में 269 वर्ग फुट का ज़िक्र है।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, कांग्रेस के अंदर चल रही गुटबाजी और अलग-अलग कमेटियों की वजह से ऐसा हो रहा है। पार्टी के घोषणा पत्र कमिटी का काम दिल्ली कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अजय माकन और पूजा बाहरी देख रहे हैं, जबकि प्रचार कमेटी का दारोमदार रोहन गुप्ता के हाथ में है।

कांग्रेस के घोषणा पत्र में झुग्गीवालों को पक्का मकान देने का वादा किया गया है। कहा गया कि जेजे कॉलोनी के हर परिवार को कठपुतली कॉलोनी की तर्ज पर 350 वर्ग फीट का घर मिलेगा। विज्ञापनों में 269 वर्गफीट का घर देने की बात कही जा रही है, जिससे मतदाताओं में भ्रम की स्थिति है।

ऑटो और ई-रिक्शा मालिकों के लिए भी घोषणा पत्र में कर्ज में मदद के लिए एक बार की सब्सिडी देने का वादा किया गया है। वहीं, विज्ञापनों में ऋण माफी की बात कही जा रही है। शिक्षा के क्षेत्र में 11 हजार शिक्षकों की भर्ती की बात घोषणा पत्र में 100 दिन में कही जा रही, जबकि विज्ञापनों में यह सीमा छह माह है।

दिल्ली में पर्यावरण संरक्षण के लिए कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में बजट का 25 प्रतिशत हिस्सा रखा है, जबकि विज्ञापनों में 20 प्रतिशत नजर आ रहा है। ट्रांसपोर्ट व्यवस्था के लिए घोषणा पत्र में तत्काल 15,000 इलेक्ट्रिक बसों की बात कही जा रही है, जबकि विज्ञापनों में 10,000 बसों की।