समाचार
महाराष्ट्र में कल तक साबित करना होगा विश्वास मत, सर्वोच्च न्यायालय ने सुनाया निर्णय

सर्वोच्च न्यायालय ने महाराष्ट्र की राजनीति पर निर्णय सुनाया है कि विश्वास मत जल्द से जल्द होना चाहिए। इस चलते कल (27 नवंबर को) तक महाराष्ट्र विधानसभा में शक्ति परीक्षण होगा। विश्वास मत गोपनीय नहीं होगा व इसका लाइव प्रसारण भी होगा।

न्यायालय ने रोहतगी के तर्क को अस्वीकार किया जिसमें उन्होंने राज्यपाल द्वारा 14 दिनों का समय दी जाने की बात कही थी। यह निर्णय कर्नाटक संकट पर लिए गए निर्णय के समान ही है।

कल हमने देखा कि 162 विधायकों के साथ शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस ने ग्रैंड हयात होटल पर मीडिया के समक्ष शक्ति प्रदर्शन किया था जिसमें विधायकों को “उद्धव ठाकरे, सोनिया गांधी और सरद पवार” के प्रति वफादार रहने की शपथ दिलाई गई थी।

शनिवार को मुख्यमंत्री की शपथ लेने वाले भाजपा के देंवेंद्र फडणवीस ने कल कार्यभार भी संभाल लिया था। हालाँकि, उप-मुख्यमंत्री की शपथ लेने वाले एनसीपी के अजित पवार बैठक से गायब दिखे थे।