समाचार
नवविवाहित महिलाओं पर ‘वर्जिनिटी टेस्ट’ यौन उत्पीड़न के समान- महाराष्ट्र सरकार

कंजरभाट समुदाय में नवविवाहित कन्याओं के कौमार्य परीक्षण (वर्जिनिटी टेस्ट) पर महाराष्ट्र सरकार ने कड़ रुख अपनाया है और कहा है कि महिला की शिकायत पर पुलिस को इस प्रकार के मामलों को यौन उत्पीड़ण के मामलों की तरह लेने के लिए निर्देश जल्द ही भेजे जाएँगे, इंडियन एक्सप्रेस  ने बताया।

इस प्रथा का विरोध कर रहे कंजरभाट समुदाय के सक्रिय कार्यकर्ताओं को आश्वासन देते हुए मंत्री रंजीत पाटिल ने यह बात कही। पाटिल ने यह भी वादा किया कि इन मामलों की जिला स्तरीय समीक्षाएँ भी की जाएँगी। इस बैठक में विधान परिषद की सदस्या शिव सेना की नीलम गोरगे भी थी।

“वर्जिनिटी टेस्ट एक प्रकार का यौन उत्पीड़न है। अगर वर्जिनिटी टेस्ट की पीड़िता शिकायत दर्ज करने के लिए तैयार है तो इसे यौन उत्पीड़न के मामले की तरह देखा जाएगा और उसी प्रकार की कार्यवाही की जाएगी।”, गोरगे ने कहा।

कंजरभाट समुदाय की इस प्रथा के विरुद्ध अभियान सक्रिय कार्यकर्ताओं के वॉट्सैप समूह ‘स्टॉप द वी रिचुअल’ से शुरू हुआ। इन कार्यकर्ताओं को हिंसात्मक प्रतिक्रियाओं का सामना भी करना पड़ा, जहाँ इनकी गाड़ियों से तोड़-फोड़ भी की गई थी।