समाचार
आईआईटी-एम ने स्तन कैंसर का पता लगाने के लिए खोजी माइक्रोवेव आधारित तकनीक

डॉ उदय खानखोजे के नेतृत्व में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी-एम) की टीम ने स्तन कैंसर का पता लगाने के लिए माइक्रोवेव या रेडियो फ्रिक्वेंसी का उपयोग करने की नई तकनीक विकसित की है, द हिंदू  ने रिपोर्ट किया।

जहाँ यूएस और यूरोप में कैंसर का पता लगाने के लिए हार्डवेयर पर कई समूह शोध कर रहे हैं, वहीं आईआईटी-एम में इस समूह ने ‘डीप लर्निंग’ के तरीके से इस नई तकनीक को खोजा है।

गणित की चुनौती का सामना करते हुए उन्होंने परमिटिविटी की सीमा को बढ़ाया है। परमिटिविटी ही वह विभेदक कारक है जो सामान्य मांस-तंतु और कैंसर मांस-तंतु में अंतर बताता है।

यह पद्धति वहनीय (पोर्टेबल), किफायती और एक्स रे व एमआरआई की बजाय बेहतर विकल्प है। इस टीम के लेख को आईईईई के ट्रांज़ैक्शन ऑन कंप्यूटेशनल इमेजिंग में प्रकाशित किया गया है।