समाचार
एचएएल भारतीय वायुसेना को विश्व के सबसे हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टरों की पहले खेप देगा

भारतीय वायुसेना (आईएएफ) का स्वीकृत परीक्षण पूरा होने के उपरांत हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) तीन हल्के लड़ाकू हेलीकाप्टरों (एलसीएच) की पहली खेप वितरित करने की तैयारी कर रहा है। यह सेना और वायुसेना के लिए स्वीकृत 15 सीमित शृंखला उत्पादन (एलएसपी) का हिस्सा हैं।

एचएएल ने एलसीएच को डिज़ाइन व विकसित किया है। इसे विश्व का सबसे हल्का आक्रमण करने वाला हेलीकॉप्टर कहा जाता है। एलसीएच का भार 5.5 टन है। एचएएल ने इसे 12,000 फीट की ऊँचाई पर संचालित करने, भारतीय सशस्त्र बलों की विशिष्ट और अनूठी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए बनाया है।

द हिंदू को एचएएल के एक सूत्र ने बताया, “रक्षा पीएसयू को 15 एलएसपी एलसीएच के अनुबंध को अंतिम रूप देकर आपूर्ति के लिए पाँच वायुसेना और पाँच सेना एलसीएच के लिए आशय पत्र प्राप्त हुआ है। एचएएल ने आईएएफ के लिए तीन एलएसपी एलसीएच के उत्पादन के संकेत दिए हैं।”

चालू वर्ष में सेना के लिए चार और वायुसेना के लिए दो एलसीएच का उत्पादन होगा। शेष छह एलसीएच का उत्पादन अगले वर्ष किया जाएगा। आईएएफ ने 65 एलसीएच और सेना को 114 हेलीकॉप्टरों की आवश्यकता बताई है।

सितंबर 2020 में आईएएफ ने लद्दाख में हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड द्वारा निर्मित दो हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर तैनात किए हैं। हेलीकॉप्टरों ने लेह और लद्दाख के अग्रिम क्षेत्रों में सशस्त्र उड़ानें भरी हैं।