समाचार
मतभेदों को भुलाकर मिलाया हाथ- शिवसेना और भाजपा साथ लड़ेंगे चुनाव

भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना ने अपने पिछले मतभेदों को एक तरफ रखते हुए सोमवार (18 फरवरी) को आगामी लोकसभा और राज्य विधानसभा चुनावों के लिए सीट साझा करने की घोषणा की है, ऑल इंडिया रेडियो  ने बताया।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस द्वारा गठबंधन का विवरण सामने आया।

फडणवीस ने कहा कि आगामी लोकसभा चुनावों में भाजपा 25 सीटों पर चुनाव लड़ेगी जबकि शिवसेना 23 सीटों पर लड़ेगी। उन्होंने कहा कि इस साल के अंत में होने वाले राज्य विधानसभा चुनावों के लिए सीट बँटवारे की व्यवस्था को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का हिस्सा बनने वाले छोटे दलों के साथ चर्चा के बाद अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दोनों पक्षों के बीच 25 साल पुराना संबंध सुरक्षित है क्योंकि वे समान विचारधारा साझा करते हैं। उन्होंने महागठबंधन को भी एकतरफा करार दिया और कहा कि राष्ट्रीय हित के लिए सभी दलों को एक साथ आने की ज़रूरत है।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने इस अवसर पर कहा कि शिवसेना और अकाली दल भाजपा के सबसे पुराने सहयोगी हैं और कठिन समय में इसके साथ खड़े भी हुए हैं।

उन्होंने कहा कि भाजपा और शिवसेना का एक साथ आना दोनों पार्टियों के करोड़ों कार्यकर्ताओं की उम्मीदों पर खरा उतरना है।

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि महागठबंधन के लिए दोनों दलों के पास एक सामान्य सूत्र के रूप में राम मंदिर था जो उन्हें दो दशक पहले एक साथ लाया था। उन्होंने कहा कि राम मंदिर जल्द से जल्द बनाया जाए।