समाचार
बोरिस जॉनसन ने भारत के लिए जताई चिंता, यूके प्रशासन ने देश को डाला लाल सूची में

ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि वह देख रहे थे कि भारत में तेज़ी से बढ़ते संक्रमण से निपटने और उनका साथ देने के लिए हमारे द्वारा क्या किया जा सकता है।

द इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने भारत को एक महान भागीदार बताते हुए ब्रिटिश मीडिया से कहा, “इस चुनौतीपूर्ण समय में भारत की मदद करने के लिए ब्रिटेन के उपायों में वेंटिलेटर या उपचार उपलब्ध कराना शामिल हो सकता है।”

ब्रिटिश प्रधानमंत्री द्वारा भारत को दिए गए इस समर्थन का महत्व इसलिए भी क्योंकि वह 26 अप्रैल को भारत आने वाले थे और देश में बढ़ रहे संक्रमण के मामलों के बाद उन्हें अपनी यात्रा रद्द करनी पड़ी थी।

इस बीच, यूके प्रशासन ने भारत को कोविड यात्रा प्रतिबंध की लाल सूची में शामिल कर दिया है। इसमें शामिल होने के बाद भारत से आने वाले लोगों के ब्रिटेन में जाने पर रोक लगा दी गई है। सिर्फ ब्रिटिश और आयरिश लोगों को ही देश में प्रवेश की अनुमति है। इसके लिए उन्हें 10 दिनों के अनिवार्य क्वारंटीन दौर से गुजरना होगा।

यूके प्रशासन ने यह निर्णय तब लिया, जब पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (पीएचई) ने 14 अप्रैल तक पता किए गए सभी मामलों में से तथाकथित भारतीय संस्करण, जिसे B.1.617 कहा जा रहा है, उसके 55 और मामले होने की पुष्टि की। इस तरह वहाँ ऐसे मामलों की संख्या 132 हो गई है।