समाचार
शिवसेना के एनडीए से निकलते ही लोजपा ने झारखंड चुनाव अकेले लड़ने के संकेत दिए

झारखंड चुनाव के चंद दिनों पहले ही भाजपा की अगुवाई वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) को सोमवार को तब झटका लगा जब एनडीए की साथी लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) ने झारखंड विधानसभा चुनाव अकेले लड़ने की बात कही।

द हिंदू  के अनुसार लोजपा ने कहा है कि वह झारखंड विधानसभा के चुनाव अकेले और अलग होकर लड़ सकती है।

यह बात तब सामने आई है जबकि लोजपा ने भाजपा से मांग की थी कि वह झारखंड चुनावों में छह सीटों पर लड़ना चाहती है पर भाजपा ने इसपर कोई जवाब नहीं दिया जिससे लोजपा काफी आहत हुई।

आपको बता दें कि राम विलास पासवान की पार्टी ने भाजपा से अपनी असहमति खुली तरह से उसी दिन जाए जाहिर की जिस दिन एनडीए ने शिवसेना जैसे सबसे पुराने साथी को खो दिया।

हाल ही में लोजपा के अध्यक्ष बने चिराग पासवान ने कहा, “हम भाजपा के साथ मिलकर झारखंड चुनाव लड़ना चाहते हैं पर अभी तक हमें हमारे अमित शाह जी, जेपी नड्डा जी और झारखंड के वर्तमान मुख्यमंत्री रघुवर दास को पाँच हफ्ते पहले लिखे हुए पत्र पर अभी तक भाजपा की ओर से कोई जवाब नहीं मिला है।”

चिराग पासवान ने खुले तौर पर बताया कि उनकी पार्टी भाजपा से छह सीटें मांग रही है। चिराग की मानें तो उनकी पार्टी उन सीटों की बात कर रही हैं जिन सीटों पर भाजपा का प्रदर्शन पिछले चुनाव में अच्छा नहीं था।

चिराग पासवान ने ज़ोर देते हुए कहा कि उनकी पार्टी इस तरह के व्यवहार को स्वीकार नहीं कर सकती और उनकी पार्टी की झारखंड इकाई ने बड़ी उत्सुकता के साथ झारखंड चुनाव अकेले लड़ने की भी बात कही है।