समाचार
दिल्ली सरकार के विज्ञापन में सिक्किम को बताया अलग, उप-राज्यपाल ने किया निलंबन

दिल्ली की केजरीवाल सरकार की ओर से शनिवार (23 मई) को नागरिक सुरक्षा वाहिनी में स्वयंसेवक के तौर पर भर्ती होने के लिए दिए गए विज्ञापन में सिक्किम को नेपाल और भूटान के साथ भारत से अलग बता दिया गया। इस पर शनिवार रात (23 मई) को नागरिक सुरक्षा निदेशालय (मुख्यालय) के एक वरिष्ठ अधिकारी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया।

ज़ी न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार, केजरीवाल सरकार ने गलती को तत्काल स्वीकार किया। इसके बाद दिल्ली के उप राज्यपाल (एलजी) अनिल बैजल ने अधिकारी को निलंबित कर दिया। उन्होंने ट्वीट किया, “नागरिक सुरक्षा निदेशालय (मुख्यालय) के एक वरिष्ठ अधिकारी को गलत विज्ञापन प्रकाशित करने के लिए तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया। वह विज्ञापन कुछ पड़ोसियों के समान सिक्किम पर गलत संदर्भ देकर भारत की क्षेत्रीय अखंडता का अनादर करता है।”

अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट कर कहा, “विज्ञापन को वापस ले लिया गया है। सिक्किम भारत का हिस्सा है।” सिक्किम के मुख्य सचिव एससी गुप्ता ने दिल्ली के मुख्य सचिव विजय कुमार देव को भेजे पत्र में लिखा, “जिस तरह का गलत विज्ञापन निकाला गया, वह सिक्किम के लोगों के लिए बहुत दुख की बात है। वे इस महान देश के तब से नागरिक हैं, जब राज्य का गठन 16 मई 1975 को किया गया था।”

भाजपा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा, “केजरीवाल को बताना चाहिए कि दिल्ली सरकार ने सिक्किम को अलग क्यों बताया? एक प्रदेश सरकार ऐसा कैसे कर सकती है? मुख्यमंत्री जी जागिए। दिल्ली को बताइए आपने क्या किया है। यह बात बहुत दूर तक जाएगी।”