समाचार
8 लाख भारतीय प्रवासी नए आरक्षण विधेयक के बाद कुवैत से निकाले जा सकते हैं

कुवैत में रहने वाले भारतीय प्रवासियों के लिए बड़े झटके के रूप में आया है प्रवासी आरक्षण विधेयक के प्रारूप का राष्ट्रीय कानूनी सभा और विधायी समिति द्वारा स्वीकृत हो जाना। एएनआई के अनुसार इस विधेयक के कारण 8 लाख भारतीय प्रवासियों को कुवैत छोड़ना होगा।

कुवैत की राष्ट्रीय सभा ने इस विधेयक को संवैधानिक माना। विधेयक के अनुसार भारतीयों की संख्या कुवैत की कुल जनसंख्या के 15 प्रतिशत से अधिक नहीं होनी चाहिए। कुवैत में सर्वाधिक भारतीय प्रवासी हैं जिनकी संख्या 14.5 लाख है। कुवैत की जनसंख्या 43 लाख है जिनमें से 30 लाख प्रवासी हैं।

पिछले महीना सत्ताधारी कुवैती प्रधानमंत्री शेख सबा अल खालिद अल सबा ने प्रस्ताव दिया था कि वर्तमान में प्रवासी जनसंख्या का 70 प्रतिशत भाग हैं जिन्हें कम करके 30 प्रतिशत किया जाना चाहिए। यह प्रस्ताव कोविड-19 महामारी के दौरान उठी विदेशी कर्मचारियों को कम करने की माँग के बाद आया है।