समाचार
उत्तरजीविका के पिता की हत्या के मामले में कुलदीप सिंह सेंगर, अन्य छह को 10 वर्ष कैद

दिल्ली के तीस हज़ारी न्यायालय ने शुक्रवार (13 मार्च) को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से निकाले गए विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और छह अन्य दोषियों को उन्नाव बलात्कार उत्तरजीविका के पिता की हत्या के मामले में 10 साल के कारावास का दंड दिया है।

नाबालिग लड़की के बलात्कार के मामले में सेंगर पहले से ही आजीवन कारावास की सज़ा काट रहा है। दंड सुनाते हुए जिला न्यायाधीश दिनेश शर्मा ने कहा, “फम एल का झुठलाया नहीं जा सकता कि कानून तोड़ा गया है। एक जनसेवक होने के नाते सेंगर को अपनी मर्यादा में रहना था। जिस तरह से अपराध किया गया है, उसे ढील नहीं दी जा सकती है।”

सेंगर और उसके भाई अतुल को पीड़िता के परिवार को पिता की मौत के मुआवज़े के रूप में 10 लाख रुपये देने का आदेश भी दिया गया है। दो पुलिस अधिकारी, सेंगर और उसके भाई समेत कुल सात लोगों को हत्या और षड्यंत्र रचने के मामले में दोषी पाया गया था।

यह मामला 9 अप्रैल 2018 का है जब हिरासत में उत्तरजीविका के पिता की मौत हो गई थी। कहा जा रहा है मामले के आरोपियों से झगड़े के बाद उन्हें पीटा गया था। उन्हें पुलिस थाने ले जाकर गैर-कानूनी हथियार रखने के अपराध में फँसाया गया था।