समाचार
“भारत से कालापानी, लिंपियाधुरा व लिपुलेख वापस लेगी हमारी सरकार”- केपी शर्मा ओली

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने रविवार (10 जनवरी) को नेशनल एसेंबली की बैठक में भारत से कालापानी, लिंपियाधुरा और लिपुलेख को वापस लेने की बात कही।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, केपी शर्मा ओली ने दावा किया कि सुगौली समझौते के तहत महाकाली नदी के पूर्व में स्थित ये तीनों क्षेत्र नेपाल के हैं। “अब भारत से कूटनीतिक वार्ता के माध्यम से इन्हें वापस लिया जाएगा। हमारी सरकार के देश का नया नक्शा जारी कने पर भी बहुत से लोग परेशान हुए थे।”, ओली ने कहा।

उन्होंने यह भी कहा, “1962 में भारत और चीन युद्ध के बाद से भारतीय सेना जहाँ तैनात हुई, उन क्षेत्रों को नेपाल के शासकों ने कभी हासिल करने की चेष्ठा नहीं की। पूर्व के शासक भारत के अतिक्रमण के खिलाफ बोलने से घबराते थे। हालाँकि, हमारी सरकार इन क्षेत्रों को वापस लेने का काम कर रही है।”

नेपाल के प्रधानमंत्री ने कहा, “हमारी सरकार ने भारत और चीन के साथ द्विपक्षीय संबंध मजबूत करने की दिशा में काम किया है। चीन के साथ रोड कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए आरानिको हाईवे का विस्तार किया जा रहा। साथ ही तिब्बत के केरुंग के साथ कनेक्टिविटी के लिए टनल बनाने का सर्वे भी हो रहा है। हम भारत के साथ संबंध अच्छे करना चाहते हैं। इस कारण अपनी चिंताएँ उनके सामने रख रहे हैं।”