समाचार
“मध्य प्रदेश में एक जुलाई से शुरू होगा ‘किल कोरोना अभियान”- शिवराज सिंह चौहान

मध्य प्रदेश में कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए राज्य सरकार एक जुलाई से 15 दिन का “किल कोरोना अभियान” शुरू करेगी। इसके तहत हर परिवार का परीक्षण किया जाएगा, ताकि राज्य को इस महामारी से मुक्त किया जा सके।

द इकोनॉमिक्स टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को इसकी घोषणा की। इसके लिए 14,000 टीमों का गठन किया जाएगा, जो 15 दिनों के अभियान में प्रतिदिन 100 घरों का सर्वेक्षण करेंगी। इसके तहत सभी दो करोड़ परिवारों के लोगों की घर-घर जाकर जाँच की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा, “हम मध्य प्रदेश से कोरोनोवायरस खत्म करने के बाद ही चैन की सांस लेंगे। घर-घर जाकर होने वाले इस परीक्षण से जल्द ही संदिग्ध मरीजों को पहचान कर उन्हें समय से उपचार दिया जा सकेगा।” उन्होंने यह दावा किया इसकी मदद से हम कोविड-19 के संक्रमण को फैलने से रोककर 76 प्रतिशत से अधिक रिकवरी, मामलों में वृद्धि दर और सक्रिय मामलों की संख्या को कम कर सकते हैं।

राज्य ने अब तक 534 मौतों की सूचना दी है। हालाँकि, मध्य प्रदेश में मामलों की बढ़ती संख्या अब कम होने लगी है। देश के सबसे अधिक प्रभावित आठ राज्यों में अब यह अंतिम स्थान पर आ गया है। वहाँ पर 200 से भी कम मामले रोज दर्ज किए जा रहे हैं और प्रतिदिन मरने वालों की संख्या भी 10 के अंदर है।

एक समय था, जब मध्य प्रदेश में सकारात्मक मामलों का प्रतिशत देश में 6 प्रतिशत मरीजों का था लेकिन अब यह घटकर 1.3 प्रतिशत रह गया है। वहीं, सबसे अधिक प्रभावित इंदौर में भी यह महज 1 प्रतिशत ही रह गया है। इंदौर में सक्रिय मामलों की संख्या 1000 से नीचे (964) तक गिर गई है। राज्य के 33 जिलों में अब 10 से कम सक्रिय मामले हैं।