समाचार
केरल से तेलंगाना के वारंगल जा रहा कीटेक्स समूह, ₹1,000 करोड़ के निवेश की घोषणा

केरल के सबसे बड़े निजी नियोक्ता, जो राज्य की कम्युनिस्ट सरकार के साथ विवादों की खबरों में बने रहते हैं, ने 1,000 करोड़ रुपये के निवेश के साथ तेलंगाना में प्रवेश करने का निर्णय लिया है।

कीटेक्स के एमडी साबू जैकब और पांच सदस्यीय टीम ने शुक्रवार (9 जुलाई) को तेलंगाना सरकार द्वारा भेजी गई एक विशेष उड़ान से हैदराबाद का दौरा किया। टीम ने राज्य के उद्योग और वाणिज्य मंत्री केटी रामाराव से भेंट के बाद निवेश की घोषणा की।

योजना के अनुसार, कीटेक्स समूह वारंगल जिले के काकतीय मेगा टेक्सटाइल पार्क में अपने कारखाने स्थापित करने के लिए 1,000 करोड़ रुपये का निवेश करेगा।

मंत्री केटी रामाराव ने ट्वीट किया, “1,000 करोड़ रुपये के शुरुआती निवेश के साथ तेलंगाना में बच्चों के परिधान बनाने वाले दुनिया के दूसरे सबसे बड़े निर्माता कीटेक्स समूह के राज्य में प्रवेश की घोषणा करते हुए खुशी हो रही। उन्होंने कारखाने स्थापित करने के लिए वारंगल को चुना है। मैं कीटेक्स के प्रबंध निदेशक के तत्काल लिए निर्णय का स्वागत करता हूँ।”

कंपनी के एमडी ने कहा, “सैद्धाँतिक रूप से कीटेक्स समूह ने वारंगल के काकतीय मेगा टेक्सटाइल पार्क में ‘टेक्सटाइल अपैरल’ परियोजना के लिए कपड़ा उद्योग में दो वर्ष की अवधि में 1,000 करोड़ के पहले चरण के निवेश पर सहमति व्यक्त की है। इससे तेलंगाना में 4,000 लोगों को नौकरियाँ मिलेंगी।”

हाल ही में कंपनी ने घोषणा की कि वह सीपीएम के नेतृत्व वाली सरकार के अधिकारियों द्वारा लगातार उत्पीड़न के कारण कोच्चि और अन्य क्षेत्रों में एक परिधान पार्क खोलने की योजना रद्द कर देगी।

साबू जैकब ने कहा, “जो कोई भी केरल में निवेश करेगा, वह मानसिक शांति खो देगा और आत्महत्या के लिए विवश हो जाएगा। अगर स्थिति इसी तरह बनी रही तो राज्य उद्योगों के कब्रिस्तान में परिवर्तित हो जाएगा।”