समाचार
केरल- एसएफआई ने एबीवीपी के सदस्यों को बेरहमी से पीटा, वीडियो वायरल

जामिया मिलिया इस्लामिया के हिंसक प्रदर्शनकारियों के खिलाफ पुलिस की कथित बर्बरता को लेकर मशहूर हस्तियों और बुद्धजीवियों ने हिस्सा लिया। वहीं, एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) के सदस्यों ने केरल में नागरिकता संशोधन अधिनियम के पक्ष में बोलने के लिए एक एबीवीपी सदस्य की बेरहमी से पिटाई कर दी।

एक वेबसाइट के अनुसार, एसएफआई भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) से संबद्ध है। यह 2014 -2015 तक 43 लाख सदस्यों के साथ भारत का सबसे बड़ा छात्र संगठन माना जाता है। वीडियो में भीड़ द्वारा एक अकेले छात्र पर हमला करते हुए दिखाया गया है। भीड़ द्वारा उसे लात-घूंसों से मारते हुए देखा सकता है।

यह घटना बुधवार सुबह 9.30 बजे हुई। मातृभूमि की रिपोर्ट के अनुसार, तीन एबीवीपी सदस्यों को गंभीर चोटों के साथ त्रिशूर के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

कथित तौर पर एबीवीपी ने परिसर में संगोष्ठी आयोजित करने का प्रयास किया था लेकिन एसएफआई के विरोध के बाद इसकी अनुमति नहीं दी गई। एबीवीपी को परिसर से बाहर सड़क पर संगोष्ठी का आयोजन करना था।

संगोष्ठी की अनुमति से इनकार करते हुए एबीवीपी ने आज हड़ताल का आह्वान किया। इसके बाद एसएफआई सदस्यों ने एबीवीपी के सदस्यों को उनकी कक्षाओं से बाहर खींच लिया और उन पर हमला करना शुरू कर दिया। दो समूहों को अलग करने की कोशिश में दो छात्राएँ भी घायल हो गई थीं।

पूर्व अध्यक्ष सहित कई एसएफआई सदस्य पीड़ितों को पीटने के आरोपी हैं। अपराधियों की पहचान करने के लिए वीडियो पर्याप्त है। अब यह देखा जाना बाकी है कि राज्य में सत्ताधारी पार्टी अपने ही छात्रसंघ सदस्यों के खिलाफ कोई कार्रवाई करती है या नहीं।