समाचार
स्वप्ना सुरेश के बैंक लॉकरों से एनआईए ने जब्त किए ₹1 करोड़ और 1 किलोग्राम सोना

केरल में सोने की तस्करी के बड़े मामले में एक प्रमुख विकास के रूप में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) ने तिरुवनंतपुरम के दो बैंकों के लॉकरों में मुख्य आरोपी स्वप्ना सुरेश के सुरक्षित रखे 1 करोड़ रुपये और लगभग 1 किलोग्राम सोने को जब्त कर लिया।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, एनआईए ने अदालत में प्रस्तुत अपनी रिमांड रिपोर्ट में कहा कि हिरासत में हुई पूछताछ के दौरान स्वप्ना सुरेश ने खुलासा किया था कि उसने गलत कामों से हुई आय को बैंक लॉकरों में रखा। साथ ही कई बैंकों में निवेश के रूप में भी जमा किया।

सुरेश और संदीप नायर को अदालत में पेश किए जाने के बाद शुक्रवार (24 जुलाई) को एजेंसी ने एक विशेष एनआईए अदालत के समक्ष रिपोर्ट प्रस्तुत की। दरअसल, दोनों आरोपियों की हिरासत अवधि समाप्त हो गई थी।

आतंकवाद रोधी जाँच एजेंसी ने अदालत को सूचित किया कि 23 जुलाई को सुरेश के एक निर्धारित बैंक शाखा में रखे गए 36.5 लाख रुपये और राष्ट्रीयकृत बैंक शाखा के एक अन्य सुरक्षित जमा लॉकर में रखे गए 64 लाख रुपये व 982.5 ग्राम सोने के आभूषण जब्त किए गए थे। एनआईए ने कहा था कि दोनों को जमानत पर रिहा करने की अनुमति दी गई तो फरार हो सकते या सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं।

एनआईए ने दावा किया था कि जब्त किए डिजिटल सबूतों का विश्लेषण होना है। उनके आधार पर दोनों की लंबी अवधि की हिरासत में पूछताछ इस मामले में महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे उनके अंतर-राष्ट्रीय संबंधों और इसकी जटिलताओं के बारे में पता चलेगा।

इस तरह एनआईए ने दबाव बनाया था कि जब्त डिजिटल उपकरणों की जाँच के लिए दोनों की हिरासत की ज़रूरत होगी। एनआईए की याचिका पर विचार करते हुए अदालत ने दोनों को 21 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया।