समाचार
द्वितीय स्वास्थ्य सूचकांक में केरल अव्वल, उत्तर प्रदेश सबसे पिछड़ा राज्य

नीति आयोग ने दूसरा स्वास्थ्य सूचकांक जारी किया है जिसमें केरल सर्वश्रेष्ठ और उत्तर प्रदेश सबसे पिछड़ा राज्य रहा। इस स्वास्थ्य सूचकांक में 23 सूचकों को सम्मिलित किया गया है।

2015-16 से 2017-18 तक स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार को इस द्वितीय गणना में सम्मिलित किया गया है। समान स्तर पर आँकलन करने के लिए सभी राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों को तीन वर्गों में बाँटा गया- बड़े राज्य, छोटे राज्य व केंद्र शासित प्रदेश।

बड़े राज्यों में हरियाणा, राजस्थान और झारखंड शीर्ष तीन राज्य रहे। इस सूची में क्रमशः आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र दूसरे व तीसरे स्थान पर रहे। बिहार और ओडिशा का प्रदर्शन सबसे खराब रहा। छोटे राज्यों में त्रिपुरा और मिज़ोरम शीर्ष दो रहे।

इसके साथ नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य सूचकांक के आँकलन को एक वार्षिक प्रक्रिया बनाया जाएगा जिससे राज्यों को स्वास्थ्य सेवा सुधार के लिए प्रेरित किया जा सके।