समाचार
अमित शाह के अनुच्छेद 370 को अस्थायी बताने का ‘पनुन कश्मीर’ ने किया स्वागत

प्रवासी कश्मीरी पंडितों के संगठन ‘पनुन कश्मीर’ ने संविधान के अनुच्छेद 370 पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के बयान का स्वागत किया है। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, लोकसभा में कांग्रेस पार्टी के नेता मनीष तिवारी के एक सवाल का जवाब देते हुए शाह ने संविधान में इस धारा को अस्थाई बताया है।

पनुन कश्मीर ने यह भी ज़ाहिर किया कि वे घाटी में आतंकवाद के प्रायोजकों को खत्म करने के लिए शाह के इरादों और क्षमताओं पर पूरा भरोसा रखते हैं। उन्होंने उम्मीद जताई है कि शाह की निगरानी में वे अपने 5,000 से अधिक पुराने घरों में पुनर्वास करेंगे।

संगठन ने एक बयान में कहा, “लोकसभा में गृहमंत्री ने जो बयान दिया है, वो दिल को छू लेने वाला और सच्चाई से परिपूर्ण है। हम कहते हैं कि अनुच्छेद 370 को आखिरकार खत्म होना चाहिए और अब इसका वक्त आ गया है। इस धारा ने कश्मीरी मुस्लिमों के एक वर्ग में अलगाव को जन्म दिया। साथ ही राज्य में आतंकवाद को बढ़ावा देने में पाकिस्तान की मदद की।”

संगठन ने नियमित रिपोर्टिंग सूची से कश्मीर छोड़ने के संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के फैसले का भी स्वागत किया। संगठन ने क्षेत्र के लिए सही रणनीति के रूप में शाह के ‘कश्मीर में आतंकवाद को कुचल दिया जाएगा’ बयान का समर्थन किया है।