समाचार
‘आतंकवाद के लिए प्यार का जाल’, जम्मू-कश्मीर में युवाओं को दिग्भ्रमित करती महिला

पाकिस्तान आधारित आतंकी संगठन अब युवाओं को आतंकवाद की ओर आकृष्ट करने के लिए मधुपाश का प्रयोग कर रहे हैं। 30 के उम्र के आसपास की एक महिला सईद शाज़िया को बांदीपुर में पुलिस ने अक सूचना आधारित ऑपरेशन में 15 दिन पहले गिरफ्तार किया था।

शाज़िया को रनबीर अपराध संहिता (भारतीय अपराध संहिता के समतुल्य) आर्म्स अधिनियम के तहत केंद्रीय सुरक्षा संस्था के अधिकारियों ने गिरफ्तार किया था। जाँचकर्ताओं ने बताया कि उसके फेसबुक व इंस्टाग्राम पर अकाउंट थे जिसका कई कश्मीरी युवक अनुसरण कर रहे थे।

शाज़िया के इंटरनेट प्रोटोकॉल पर महीनों से कड़ी नज़र रखी जा रही थी। वह युवकों से वार्ता करती थी और उनसे मिलने का वादा करती थी अगर वे उसकी बताई गई वस्तु को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुँचाने में सफल हुए तो।

पिछले वर्ष सितंबर से ही लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी अबु इस्माइल और छोटा कासिम के मुठभेड़ में मारे जाने के बाद से शाज़िया सुरक्षा एजेंसियों के रडार पर थी। उनके पास से मिली सामग्रियों और दस्तावेजों से पुलिस को पता चला था कि शाज़िया ने इन दोनों को हथियार पहुँचाए थे।

इसके बाद शाज़िया झैस-ए-मोहम्मद के साथ काम करते हुए घाटी में हथियार पहुँचाया करती थी, द न्यू इंडियन एक्सप्रेस  ने रिपोर्ट किया।