समाचार
कमलेश तिवारी का गला रेतने के लिए देखे थे खाड़ी देशों के वीडियो- हत्यारों का खुलासा

लखनऊ के बहुचर्चित कमलेश तिवारी हत्याकांड में कई खुलासे सामने आए हैं। हत्या करने से पहले हत्यारों ने खाड़ी देशों के कई गला रेतने वाले वीडियो देखे थे, दैनिक जागरण  ने रिपोर्ट किया।

वीडियो देखकर हत्यारों ने हत्या की योजना और पुलिस को कैसे चकमा देना है, इन बातों पर भी मंथन किया था। साथ ही हत्यारे हत्या के बाद एक वीडियो बनाना चाहते थे, जिसके माध्यम से वे संदेश दे सकें, हिंदुस्तान  ने रिपोर्ट किया।

कमलेश तिवारी हत्याकांड में एटीएस और सीमा सुरक्षा बल ने एक और संदिग्ध को हिरासत में लिया है। संदिग्ध की पहचान की जा रही है। माना जा रहा है कि यह संदिग्ध कमलेश हत्याकांड में हत्यारे को मदद पहुँचाने के लिए आया था।

वहीं, पुलिस अधिकारियों ने हत्या करने वाले दूसरे चाकू को भी बरामद कर लिया है। पुलिस अधिकारियों के अनुसार कमलेश की हत्या में दो चाकू और एक पिस्टल का उपयोग किया गया था।

कमलेश तिवारी के हत्यारों को शरण देने वाले पलिया निवासी रईस के अब गुजरात संबंधों को भी पुलिस खंगाल रही है। रईस ने पलिया क्षेत्र में अपने कट्टरपंथी साथियों का एक वॉट्सैप ग्रुप तैयार किया था। इसमें 72 लोग शामिल थे।

रईस तो कातिलों को पलिया में पनाह देने का निर्देश मिला था। इसके बाद उन्हें नेपाल ले गया जहाँ भी उसने अपने खास के यहाँ दोनों कातिलों को रुकवाया।

मुख्य आरोपी से पूछताछ के बाद पुलिस जल्द ही हत्या की और कड़ियों को जोड़ेगी। पुलिस को संदेह है कि इस हत्याकांड में आतंकी समूहों का भी हाथ हो सकता है।